Develop a Stock Market App in Android

Develop a Stock Market App in Android

As mobile apps have penetrated almost every industry, financial and stock sector is no exceptions. Traders and brokers are betting big on mobile devices due to unstoppable rise of users, now in millions. And even though most traders have been using mobile apps for long now, the possibilities to innovate and earn on broker apps. So a trading app like E-Trade or Stash could be your path to glory.

Mobile trading apps can be not just about news feed and conducting trades, but the whole trading experience in mobile. One could build app with various trading tools, multiple types of bids, charts, data research, and more. Already established financial apps like TD Ameritrade, E-Trade Mobile, Fidelity, OptionsHouse Mobile, Interactive Brokers are the ice-breaking examples.

Do You want your Own
Website , Mobile App or any other IT service ?
Then, Come with me.

Creating your Android application
The first thing we want to do is create our Android application. Open Android Studio and create a new application.

Enter the name of your application, StockExchangeApp, and then enter the package name, which is com.example.stockexchangeapp. Make sure the Enable Kotlin Support checkbox is selected, choose the minimum SDK, we chose API 19, click Next. Choose an Empty Activity template and click Finish.

Once you have realized your app for monitoring the stock market can be a huge success, it is high time for you to define your target audience. Considering the stats we have mentioned, you are supposed to target people aged 30-40 who are constantly in search of new ways to bear fruit and make extra cash with minor risks.

As a rule, those folks are not devoted moneymakers. They simply want to have a reliable financial background until they retire. Professional traders and stock brokers may form another group of your target audience. They may seek for better trading conditions, as a few brokers and websites really try to meet their expectations.

Check out the following list of major problems both investors and independent stockbrokers may face. Your stock marketing investment application may turn out to be their problem solver.

Conclusion

In this post, we have learned how to leverage the power of Pusher to create powerful engaging applications.

39 thoughts on “Develop a Stock Market App in Android

  1. बेरोजगार आन्दोलन जिन्दाबाद।
    बेरोजगार आन्दोलन के सदस्य बनने के लिए सम्पर्क करें 8279996482

  2. Kiyu humara desh peche hai kiyu berojgari badh rahi hai ye is liye ho raha hai humare desh mein corruption sab se jayaada hai
    DESH KE PM NE CORRUPTION KO ROKNE KI KOSHISH HI NAHI KI HAI SCAM AUR CORRUPTION AUR JAYAADA HO GAYI HAI.
    POLICE HO YA PRASHASAN SAB
    ANTI-CORRUPTION DEPARTMENT BHI KUTCH NAHI KARTA HAI
    HUM SAB KO GALAT HO RAHA HAI SAB DIKHTA HAI LEKIN ANTI-CORRUPTION DEPARTMENT KO NAHI DIKHTA HAI
    YE HUMARE DESH KI SAB SE BADHI KAMZORI HAI.
    AGAR DESH KO SAHI KARNA HAI TO
    CORRUPTION
    NEGLECTING OF DUTY
    PERFORMANCE OF POST
    AUR BE NAAMI SAMPATI
    SAB KO LAGAAM LAGANI HOGI
    DESH SUDHREGA
    TO
    DESH BADLEGA
    AGAR SAHI LAGE TO PLZ SHARE KARO

  3. यह सरकार सिर्फ थोथी बजने वाली है।कोई भी एक काम ढंग से नही किया।जो देश 2014 मे दुनिया की तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था था वह आज सातवें नम्बर पर है।बेरोजगारी व भ्रस्टाचार चरम पर है।देश पर कर्ज़49%बढ़ गया।विदेशी पूंजी निवेश24%कम हो गया।और भक्त अब भी कहते हैं देश तरक्की कर रहा है।
    अच्छी पत्रकारिता के लिए धन्यवाद।तो जैसों की वजह से शायद लोग जागृत हो

    1. To kon sir govt. Shi thi.. ., modi ne kam se km world ko ye to btaya ki india bhi koi desh he.. .. . Congress ke aadhe neta to property Or corruption ke charge me andr ja re he.. .. P Chindbarm to aaj ho gya.. ..

      1. *मोदी का पूरा रिपोर्ट कार्ड*(अगर गलत लगे तो गुगल पर जाकर देख लेना)

        आप यह देखकर चौंक जाएंगे कि पिछले 5 वर्षों में भारत कैसे बदल गया है, इसमे अगर कुछ भी गलत लगे तो बताएं…अन्यथा इस सच को स्वीकार करें..

        *1* भारत अब उच्चतम बेरोजगारी दर से पीड़ित है *(NSSO डेटा)*

        *2* दुनिया के सभी शीर्ष 10 सबसे प्रदूषित शहर अब भारत में हैं *(WHO डेटा)*

        *3* भारतीय सैनिकों की शहीद की संख्या 30 वर्षों में सबसे अधिक है *(वाशिंगटन पोस्ट)*

        *4* भारत में अब 80 वर्षों में सबसे अधिक आय असमानता है *(क्रेडिट सुइस रिपोर्ट)*

        *5* भारत महिलाओं के लिए दुनिया का सबसे खराब देश बन गया है *(थॉमस रॉयटर्स सर्वे)*

        *6* उग्रवाद में शामिल होने वाले कश्मीरी युवा इन वर्षों में सबसे ज्यादा हैं *(भारतीय सेना के आंकड़े)*

        *7*.इस बार भारतीयों किसानों को पिछले 18 साल में सबसे खराब कीमत का सामना करना पड़ा *(WPI डेटा)*

        *8* मोदी के पीएम बनने के बाद अब तक की सबसे ज्यादा गाय से जुड़ी हिंसा और रिकॉर्ड पर मॉबलिंचिंग की घटनाएं हुई *(इंडिया स्पेंड डेटा)*

        *9* भारत अब विश्व का दूसरा सबसे असमान देश है *(ग्लोबल वेल्थ रिपोर्ट)*

        *10* भारतीय रुपया अब एशिया की सबसे खराब प्रदर्शन वाली मुद्रा *(मार्केट डेटा)* है

        *11* भारत पर्यावरण संरक्षण में विश्व का तीसरा सबसे बुरा देश बन गया है *(EPI 2018)*

        *12* भारत के इतिहास में पहली बार विदेशी धन और भ्रष्टाचार को वैध बनाया गया है *(वित्त विधेयक २०१ in)*

        *13* हमारे वर्तमान प्रधान मंत्री 70 वर्षों में कम से कम जवाबदेह प्रधानमंत्री हैं *(प्रथम पीएम 0 प्रेस कॉन्फ्रेंस करने के लिए)*

        *14* भारत के इतिहास में पहली बार, CBI बनाम CBI, RBI बनाम Govt, SC बनाम Govt के झगड़े इसलिए हुए क्योंकि मोदी सभी लोकतांत्रिक संस्थाओं पर नियंत्रण चाहते थे

        *15* भारत के इतिहास में पहली बार, सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि ”लोकतंत्र खतरे में है, हमें काम नही करने दिया जा रहा”

        *16*. भारत के इतिहास में पहली बार, रक्षा मंत्रालय कार्यालय से चोरी हुए शीर्ष गुप्त रक्षा दस्तावेज (राफेल)

        *17*.पिछले 70 सालों में असहिष्णुता और धार्मिक अतिवाद सबसे ज्यादा है *(व्यक्तिगत अवलोकन क्योंकि इसके लिए कोई डेटा मौजूद नहीं है )*

        *18.भारतीय मीडिया अब तक के वर्षों में सबसे खराब है *(व्यक्तिगत अवलोकन)*

        *19*.भारत के इतिहास में पहली बार RBI के गवर्नर व डिप्टी गवर्नर ने एक सत्ता के कार्यकाल में इस्तीफा दिया है।

        *20*.भारत के इतिहास में पहली बार, अगर आप मोदी सरकार की आलोचना करते हैं, तो आप पर देशद्रोही का लेबल लगता हे जो की बहुत शर्मनाक है।

        इस संदेश में जो कुछ भी कहा गया है वह जुमला नहीं है। ऊपर दिया गया सभी डेटा 100% सत्यापित एफएसीटीएस है। आप किसी भी बिंदु पर एक Google खोज करके उन्हें स्वयं सत्यापित कर सकते हैं। हमारे भारत के साथ जो हुआ है उसकी वास्तविकता यही है।

        मोदी सरकार पिछले 70 वर्षों में सबसे खराब भारत सरकार है।

        कुछ लोग कहते हैं कि 2019 का चुनाव भारत में होने वाला आखिरी चुनाव होगा। क्योंकि अगर मोदी इस बार जीतते हैं, तो वह हमारे लोकतंत्र के सभी संस्थानों को नियंत्रित करना चाहते हैं और एक तानाशाह बन जाएंगे। आज *”चोर” और “चौकीदार” की बहस के बीच रोज़ी-रोटी, शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, भ्रष्टाचार, कालाधन, नोटबंदी, रोजगार, महंगाई आदि सभी मुद्दें उड़न छू हो गये।

        लेकिन ये तय है कि जब देश को बर्बाद करने वालों की सूची तैयार होगी तब इन दो वर्गों का नाम सबसे ऊपर होगा
        1.बिकाऊ मीडिया
        2. मूर्ख अंधभक्त

        *इस सरकार की सुखद बात यही रही कि नाली से गैस, बतख से ऑक्सीजन, गोबर से कोहिनूर, रोजगार में पकौड़े इतनी मनोरंजक सरकार थी कि 5 साल कैसे कट गये पता ही नहीं चला..*

        डरें मत, इस संदेश को साझा करें।
        हमारे लोकतंत्र को बचाएं।

        ।।राष्ट्रवादी टीम।।
        ।।।मूलसिंह शेखावत बल्लूपुरा।।।

        1. Sahi baat h sir but but but
          Koi b gvt ho chahe modi ya congress in sabme gvt se zada public ka role hota h.
          Ye jab samajh ajayega hum Hindustan k logo to 15/20 sudhar jayengi

  4. तू है कौन तेरे कहने से क्यों मानें ?
    जितना आप लोग विरोध करोगे मोदी और सशक्त हो कर उभरेगा, समझदार व्यक्ति यह देखो कि मोदी या मोदी परिवार के पास प्रॉपर्टी व धन दौलत कितनी है फिर अन्य नेताओं से मिलान करना।
    जब देश चलाता है कोई तो अच्छे व गलत दोनों ही फैसले होते हैं पर मोदी की देशभक्ति व ईमानदारी पर कोई शक नहीं।

  5. देश को बर्बाद कर दोय मोदी सरकार ने, नए रोज़गार तो दिए नही करोड़ो रोज़गार छीन लिए। सरकारी कंपनियों को बेच बेच के देश को कामज़ोर किया है नरेंद्र मोदी ने

  6. मोदी जी की शक़्ल भाषण खाने ko नहीं देंगे दोस्तो आप लोग अपने आसपास मे नजर दौडाओ कितने रोजगार के अवसर पैदा हुए या लोग बेरोजगार हुए कितनी न्यू फैक्टरी विदेशों से आई जो पुरानी लगी हैं वो भी सरकार के जीएसटी असमंजस के कारण बन्द होने की कगार पर हैं जागो ग्राहक जागो

  7. बेरोजगारी बढ़ने के मुख्य कारण।
    शिक्षा नीति- देश मे हर साल लगभग 18 लाख इंजीनियर निकल रहे है,पिछले 10 सालों मे 1.4 करोड़ इंजीनियर बने,परंतु हर साल 4-5 लाख लोगो को रोजगार उनके क्षेत्र मे मिला।
    जनसंख्या वृद्धि- हर साल 2.5 करोड़ नयी आबादी जुड़ रही है,सभी को नौकरी देना हर सरकार के लिए असंभव ही होगा। स्व रोजगार और आय उत्पन्न करने के नए तरीके हमेशा देखने होंगे।
    भ्रस्टाचार- देश मे टैक्स चोरी एक गंभीर समस्या है, आज भी हम सभी 2 नं से आय प्राप्त करने मे संकोच नहीं करते परंतु ईमानदारी की अपेक्षा सभी से करते है,इसीलिये पहले खुद को बदलना होगा,तभी देश बदलेगा।
    नजरिया- नजरिया बदलना जरुरी है,किसी काम को छोटा नहीं समझना चाहिए। नौकरियों की कमी नहीं है,हां काम करने वाली योग्यता की कमी जरुरी है।इतने बड़े देश मे तुरंत परिवर्तन की अपेक्षा करना व्यर्थ है। समय लगता है। 70 सालो मे भी चेक का प्रयोग 23% भी नहीं पंहुचा। आज भी लोग कैश मे विनिमय करते है,क्यों? जबकि ये अर्थव्यवष्ठा के लिए घातक साबित हो रही है।

  8. बेरोजगारी का मूल कारन जनसंख्या है। जिस दिन बढ़ती जनसंख्या पे लगाम लगेगा उस दिन से बेरोजगारी धीरे-धीरे खत्म हो जायेगी।
    आगे आपलोग खुद समझदार हो।

  9. I can see the negetive comments those hv got reservation in school n college or who called them selves minorities but it’s new India where u all can’t defeat and we call others Bhakt, I wrote others as I am also from Quota but my father never allow or he had self esteem, ……dont be a beggar or dont feed a begger

    Bhik maangna band karo….aur bhik dena bhi

  10. Job kvl unhi ko nhi mil rha jinke pass talent nhi h…skills ki kami wale hi job ki bat kr rhe h…skill development ke itne program chal rhe h pahle wo join kro uske bad govrnment loan bhi de rhi h self startup ke liye…or bhai jab apme talent nhi hoga ya junun nhi hoga to modi g apko ghar se pakad le jayenge or bolenge beta job karlo …sab ke jimedar hum khud h…

  11. Iska karan sirf bramanwad or Brianna hai. Sanvidhan ke charo pillar par brahmnoka warcahsw hai unki nitiya barabr nahi hai. Or modiki nitiya. Abhi bhi har shektra me, bahut jaga khali hokar bhi bharwaya nahi ja raha. Jan bujakr SC, ST, OBC ko nokriya nahi di jari. Bina interview ke brahmnoko IAS OR IPS bana ja raha. Iska only jatiwad karan hai jo ki brahamn kar rahe hai Jo ki brahman videshi hai

  12. भाई लोगो जब चाय बेचने वाले राज करेगे तो यही हाल होगा।हम भी आज से 5 6 साल पहले मोदी को अच्छा मानते थे पर अब पता चल रहा है कि कितनी बड़ी भूल कि है हमने।इस PM ने हमारा रोजगार ही छीन लिया।इस समय बहुत दुख हो रहा है मुझे।अब तो भागवान पर हि भरोसा है वही नयाय करेगा।

Leave a Reply